एप्लीकेशन सर्वर क्या है ?

  टेक्नोलॉजी, सभी

वेब सर्वर और एप्लीकेशन सर्वर के मध्य अंतर अब हम इनके मध्य अंतर को पढेंगे:-

  • 1:- वेब सर्वर केवल http, https प्रोटोकॉलों को ही सपोर्ट करता है|
    जबकि एप्लीकेशन सर्वर केवल http और https तक ही सीमित नही है| यह http, https के साथ-साथ iiop, rmi प्रोटोकॉलों को सपोर्ट करता है|
  • 2:- वेब सर्वर छोटे तथा मध्यम आकार वाले वेब एप्लीकेशन के लिए उपयुक्त है|
    एप्लीकेशन सर्वर का प्रयोग सामान्यतया बड़े पैमाने में किया जाता है|
  • 3:- वेब सर्वर jee मोड्यूल के servlet, JSP तकनीको के आधार पर विकसित किया गया है|
    जबकि एप्लीकेशन सर्वर जो है वह servlet, JSP, EJB, JTA, जावा मेल तकनीको के आधार पर विकसित किया गया है|
  • 4:- वेब सर्वर केवल servlet कंटेनर तथा JSP कंटेनर का ही प्रयोग करते है|
    जबकि एप्लीकेशन सर्वर जो है वह servlet कंटेनर, JSP कंटेनर तथा EJB कंटेनर का प्रयोग करता है|
  • 5:- वेब सर्वर केवल .war extensions वाली फाइलों को ही deploy करता है|
    जबकि एप्लीकेशन सर्वर .war तथा .ear दोनों फाइलों को deploy कर सकता है|
  • 6:- वेब सर्वर में रिसोर्स यूटिलाइजेशन निम्न होता है|
    एप्लीकेशन सर्वर में रिसोर्स यूटिलाइजेशन उच्च होता है|
  • 7:- वेब सर्वर का प्रयोग सबसे पहले 1989 में किया गया था|
    एप्लीकेशन सर्वर का प्रयोग 1990s में किया गया था|
  • 8:- वेब सर्वर के उदाहरण:- tomcat, apache, JWS, तथा Reisn आदि है|
    एप्लीकेशन सर्वर के उदाहरण:- weblogic, Jboos, तथा websphere आदि है|

पूरा पढ़े

LEAVE A COMMENT