अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को पहली बार कब देखा

  मनोरंजन, सभी

पद्मावती कई मुश्किलों के बाद लोगों के बीच में आ तो गई थी जिसमें पद्मावती के रिलीज में संजय लीला भंसाली को काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ा इसके लिए उनको बॉलीवुड का पूरा सपोर्ट रहा लेकिन जिस समय यह फिल्म रिलीज होने वाली थी उस समय नहीं हुई लेकिन जब हुई तब लोगों की काफी ज्यादा भीड़ मिली यह पिक्चर सुपरहिट रही इस पिक्चर की कहानी सत्य घटना पर आधारित है।

जिसमें अलाउद्दीन खिलजी पद्मावती को पाने के लिए हर हद से गुजर जाता है लेकिन पद्मावती अपने प्राण त्याग देती है लेकिन अलाउद्दीन खिलजी के हाथ नहीं आती और अलाउद्दीन खिलजी पद्मावती को पाने की चाहत में यूं ही बेबस रह जाता है।

अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को कभी पूरे तरीके से नहीं देखा था यह पिक्चर की कहानी बताती है लेकिन इसके बारे में कई अलग-अलग बातें किताबों में और पुराने लोगों द्वारा कहानियों में सुनाई गई है फिल्म के अनुसार अलाउद्दीन खिलजी पद्मावती केवल एक परछाई में देखता है और इससे ज्यादा नहीं वह भी एक से क्षण के लिए उसके बाद अलाउद्दीन खिलजी चाहत पद्मावती को पाने की हो जाती है और वह पद्मावती को पाने के लिए सब कुछ करना चाहता था।

इसके लिए उसने चितौड़गढ़ पर हमला कर दिया और हमला करने के बाद चित्तौड़गढ़ पर पूरी तरीके से अधिकार किया लेकिन जब तक वह पद्मावती तक पहुंचता तब तक पद्मावती अपने प्राणों की आहुति दे चुकी थी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक है जिस पर क्लिक करके आप पद्मावती से जुड़े अन्य समाचारों के बारे में जान सकते हैं।

‘पद्मावती’ की रिलीज से पहले दीपिका पादुकोण की सरप्राइज पार्टी

जब सुप्रीमकोर्ट का ‘पद्मावती’ की रिलीज पर रोक

असलियत में कोई पद्मावती थी ही नहीं : इतिहासकार इरफान हबीब

पद्मावती’ विरोध : चित्तौड़गढ़ किले में प्रवेश बंद, मुंबई पुलिस ने चेतावनी जारी की

जब मध्यप्रदेश में फिल्म ‘पद्मावती’ पर प्रतिबंध, बनेगा स्मारक

LEAVE A COMMENT